Thursday, December 18, 2008

धन्‍यवाद साथियो

धन्‍यवाद साथियो, ब्‍लॉग पर लिखने का विचार आने के बाद इसे बनाने और पहली पोस्‍ट लिखने से लेकर लगातार मिल रही सहयोगियों की हौसलाअफजाई और विरोधियों के तीखे कमेंटों के लिए बहुत-बहुत धन्‍यवाद। इन दोनों वजहों ने मुझे लगातार बेहतर लिखने में मदद दी। आज दैनिक समाचारपत्र 'आज समाज' में मुन्‍तज़र अल जैदी के बारे में लिखी मेरी दो पोस्‍टें प्रकाशित हुई हैं। स्‍वतंत्र, निष्‍पक्ष अभिव्‍यक्ति और वैकल्पिक मीडिया के एक सशक्‍त माध्‍यम के तौर पर ब्‍लॉग पर मेरा विश्‍वास लगातार बढ़ता जा रहा है। फिर से एक बार अपने ब्‍लॉग से इतर साथियों, समानधर्मा ब्‍लॉगरों और विरोधी ब्‍लॉगरों का भी धन्‍यवाद!

4 comments:

cmpershad said...

आपकी लेखन यात्रा सफल हो - शुभकामनाएं

मोहन वशिष्‍ठ said...

बस अब आप निरंतर लिखते जाओ शुभकामनााओं सहित

JAI SINGH said...

कपिल वास्‍तव में यह एक अच्‍छी खबर है। हिन्‍दी ब्‍लागिंग की दुनिया में आपका प्रयास सराहनीय है। तर्कपूर्ण विश्‍लेषण के साथ आपकी जनपक्षधर और प्रगतिशील पोस्‍ट्स काबिलेता‍रीफ है। ब्‍लाग यूं ही कुछ कुछ लिखते रहने और सार्थकताबोध महसूस करने तथा सही प्रतिभाओं को बढ़ाने के बजाय गुटबाजी करने और प्रसिद्धि पाने का जरिया नहीं है। यह एक जिम्‍मेदारी वाला काम है। सिर्फ घर/आफिस में इंटरनेट कनेक्‍शन होना ही ब्‍लाग पर लिखने की काबिलियत नहीं प्रदान कर देता। इस ट्रेंड को तोड़ने के लिए आपका ब्‍लाग प्रशंसा के काबिल हैं।

विष्णु बैरागी said...

आपको बधाइयां और शुभ-कामनाएं ।